Breaking news
  • नर्सरी से निकली पौध गुणवत्ता के विपरित होगी तो सजा जुर्माने का प्राविधान : उनियाल
  • सिंगल यूज प्लास्टिक के उपयोग को रोकने के लिए जन-अभियान चलाएं
  • भारत के सुरक्षा सलाहकार ने किया विशेष बैठक का आयोजन
  • पहाड़ों की रानी मसूरी पर्यटकों के आकर्षण का केन्द्र
  • दिसम्बर के दूसरे सप्ताह में होंगी संत महात्माओं के साथ बैठक : सीएम
  • वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक ने लिखा अधीक्षण अभियंता यूपीसीएल को पत्र
  • बच्चो ने बाँधा एसएसपी को दोस्ती बैन्ड
  • सदैव प्रासंगिक बनी रहेंगी गुरूनानक देव की शिक्षाएं : मुख्यमंत्री
Todays Date
13 November 2019

मोदी सरकार के आम बजट को कांग्रेस ने बताया दिशाहीन

मोदी सरकार के आम बजट को प्रीतम सिह ने बताया दिशाहीन

संदीप गोयल/एस.के.एम. न्यूज़ सर्विस

देहरादून, 5 जुलाई।उत्तराखण्ड प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष प्रीतम सिह ने केन्द्र की मोदी सरकार के आम बजट को दिशाहीन, प्रतिगामी, विकास अवरोधी तथा आम आदमी के हितों के खिलाफ मंहगाई बढ़ाने वाला बजट बताया है।

प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष प्रीतम सिंह ने केन्द्रीय आम बजट पर अपनी प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए कहा कि केन्द्र सरकार ने अपनी हठधर्मिता का परिचय देते हुए जो बजट प्रस्तुत किया है वह दिशाहीन, प्रतिगामी, विकास विरोधी, मंहगाई बढ़ाने वाला तथा देश की आर्थिक वृद्धि पर चोट पहुंचाने वाला बजट है। देश के वित्त मंत्री ने बजट में आंकडों की बाजीगरी कर घुमाकर नाक पकड़ने का काम किया है। कोरी घोषणाओं व जुमलेबाजी वाले बजट में वित्तीय प्रबन्धन का नितांत अभाव है तथा इस बजट से मंहगाई बढ़ने के साथ ही आम आदमी के सिर पर बोझ बढेगा। उन्होंने कहा कि बजट के प्रावधानों से विकास दर दहाई का आंकडा भी नहीं छू पायेगी और न ही रोजगार के अवसर बढ़ेंगे। प्रीतम सिंह ने कहा कि वित्तमंत्री श्रीमती निर्मला सीतारमण द्वारा प्रस्तुत आम बजट में मात्र कोरी घोषणाओं का अंबार लगाया गया है परन्तु उन्हें पूरा करने के लिए पैसा कहां से आयेगा इसका कोई उल्लेख नहीं है। बजट में आम जनता को मंहगाई से निजात दिलाने के लिए कोई प्रावधान नहीं किया गया है उल्टा पेट्रोल-डीजल के दामों में 1 रूपया अतिरिक्त सेस लगाकर मंहगाई को बढ़ाने का काम किया है। बजट में नौजवानों के भविष्य की घोर उपेक्षा की गई है इस बजट से देश में रोजगार के अवसर घटेंगे, किसान, गरीब व आम आदमी के लिए इस बजट में कुछ भी नहीं है। पिछले कार्यकाल में की गई नोटबंदी और जीएसटी से देश में कई हजार लघु उद्योग बन्द हो गये थे, रीयल स्टेट सेक्टर में काम पूरी तरह से ठप्प हुआ तथा किसानो को उनकी उत्पाद लागत न मिलने के कारण कृषि क्षेत्र में भी रोजगार के अवसर न्यूनतम हुए हैं। इन तीनों क्षेत्र में लगभग 6 करोड़ से अधिक लोग बेरोजगार हुए हैं। वित मंत्री ने अपने इस बजट में किसानों की आय बढ़ाकर दोगुनी करने की बात की गई है परन्तु इसके लिए कोई प्रावधान नहीं किया गया है। नये रोजगार के अवसर सृजित करने के लिए कोई भी बजट में कोई प्रावधान नहीं किया और बेरोजगार हुए करोड़ों लोगों की पुर्नबहाली की बात पर भी सरकार मौन है। यूपीए सरकार के समय एफडीआई का विरोध करने वाली मोदी सरकार में बीमा क्षेत्र में 100 प्रतिशत एफडीआई की बात की जा रही है। प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष प्रीतम सिंह ने केन्द्र सरकार के आम बजट को पूॅंजीपतियेां को लाभ पहुंचाने वाला बताया है। उन्होंने कहा कि इनकम टैक्स छूट के किसी भी स्लैब मे कोई बढ़ोतरी नहीं की गई है जिससे कर्मचारियों को टैक्स छूट के रूप में कोई भी लाभ नहीं मिल पायेगा। महिलाओं, किसानों, बेरोजगार नौजवानों के लिए इस बजट में कोई विशेष प्रावधान नजर नही आता है। रोजगार के सृजन तथा महिलाओं के सशक्तीकरण एवं सम्मान की बात केवल मोदी सरकार की लच्छेदार भाषणों का हिस्सा मात्र है। आत्म हत्या के लिए मजबूर हो रहे किसानों को बरगलाने का काम किया गया है तथा उनके लिए बजट में किसी प्रकार की बडी राहत नहीं दी गई है।

No Comments

Leave a Reply

*

*

error: Content is protected !!