Breaking news
  • 4 माह में एसएसपी ने किया नशे की तस्करी करने वालो के नेटवर्क को ध्वस्त
  • युवतियों ने किया दून पुलिस का आभार प्रकट
  • खुर्दबुर्द की जा रही नगर निगम की सरकारी भूमि: लालचन्द शर्मा
  • महिला आरक्षी ने रक्तदान कर बचाई गर्भवती महिला की जान
  • महिलाओं के लिए किया जागरूकता कार्यक्रम आयोजित
  • नशे की लत से युवा पीढ़ी हो रही बर्बाद : धस्माना
  • कांग्रेस ने किया भाजपा सरकार का पुतला दहन
  • 19 दिसंबर से होगा तीन दिवसीय एफीनिटी महोत्सव का आयोजन : अरुण 
Todays Date
11 December 2019

श्राइन बोर्ड की आड में देवभूमि के धार्मिक स्थलों पर कब्जा करने की कोशिश : विजय सारस्वत

श्राइन बोर्ड की आड में देवभूमि के धार्मिक स्थलों पर कब्जा करने की कोशिश : विजय सारस्वत

हक-हकूकधारियों के हितों पर कुठाराघात कर रहीं सरकार : कांग्रेस

संदीप गोयल/एस.के.एम. न्यूज़ सर्विस

देहरादून। चार धामों समेत उत्तराखंड के प्रसिद्ध मंदिरों के लिए श्राइन बोर्ड के गठन का कांग्रेस ने विरोध किया है। पार्टी ने आरोप लगाया कि सरकार चार धामों व मंदिरों के पुरोहितों के हक-हकूकों में हस्तक्षेप कर रही है। गौरतलब है कि बीती 27 नवंबर को कैबिनेट ने चार धाम समेत प्रसिद्ध 51 मंदिरों के लिए श्राइन बोर्ड के गठन के फैसले पर मुहर लगाई हैं।

उत्तराखण्ड प्रदेश कांग्रेस कमेटी के महामंत्री संगठन विजय सारस्वत ने उत्तराखण्ड के विश्व प्रसिद्ध चार धामों को श्राइन बोर्ड के हवाले करने के निर्णय को निन्दनीय एवं सनातन धर्म के विपरीत बताया है। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार ने यह निर्णय लेकर तीर्थ पुरोहितों के हक-हकूकों पर हस्तक्षेप का काम किया है तथा बिना तीर्थ पुरोहित व राज्य की सम्मानित जनता की सहमति के चारधामों के लिए वैष्णो देवी की भांति श्राइन बोर्ड का गठन करने का निर्णय लिया जो कि सीधे-सीधे लोगों के धार्मिक स्थलों पर सरकार का कब्जा करने की कोशिश मात्र है। कांग्रेस महामंत्री विजय सारस्वत ने कहा कि डबल इंजन सरकार पिछले ढाई साल में विकास के स्थान पर धार्मिक स्थानों पर कब्जा करने व राज्यवासियों को पलायन व बेरोजगारी देने का काम किया है। उन्होंने कहा कि भाजपा सरकार में चारों धामों के तीर्थ यात्रियों के लिए सुविधाओं का नितांत अभाव रहा है, सरकार को चाहिए कि अपने राज्य के बजट से यात्रियों को सुविधायें उपलब्ध कराये न कि श्राइन बोर्ड के नाम पर कब्जे की कोशिश करे। उन्होंने कहा कि स्वयं चारधाम विकास परिषद के उपाध्यक्ष श्री शिव प्रसाद ममगाई भी सरकार के इस निर्णय से इत्तेफाक नहीं रखते है। उन्होंने यह भी कहा कि लगातार कर्ज के बोझ से दब रही सरकार अब लोगों की धार्मिक भावनाओं से खिलवाड कर धार्मिक स्थलों की कमाई से अपने बेलगाम खर्चे पूरा करने की कोशिश कर रही है। विजय सारस्वत ने कहा कि इसी हिमालय और गंगा की गोद में ऋषि मुनियों ने वेदों और पुराणों की ऋचायें लिखी हैं। उत्तराखण्ड की हजारों वर्षं पुरानी सनातन पूजा पद्धति एवं परम्पराओं में बदलाव धार्मिक मान्यताओं के खिलाफ है। उन्होंने यह भी आरोप लगाया कि भाजपा के कुछ बड़े नेता जो कई धार्मिक संस्थाओं का संचालन करते हैं श्राइन बोर्ड की आड में देवभूमि के धार्मिक स्थलों पर कब्जा करने की कोशिश कर रहे हैं।

No Comments

Leave a Reply

*

*

error: Content is protected !!