Breaking news
  • जनपद को शत् प्रतिशत् साक्षर बनाने के निर्देश
  • आढ़त बाजार की यातायात व्यवस्था को लेकर बैठक का आयाेजन 
  • जनपद टास्कफोर्स समिति की बैठक आयोजित
  • महाकुम्भ मेले में यातायात प्रबन्धन को लेकर डीजीपी ने ली बैठक
  • उत्तराखण्ड में भी किया गया कोविड-19 वैक्सीन के टीकाकरण का पूर्वाभ्यास
  • प्रदेश की समृद्धि व खुशहाली एक मात्र लक्ष्य : प्रीतम सिंह
  • बोलेरो मैक्स गहरी खाई मे गिरी, एक की मौत
  • मसूरी विधानसभा क्षेत्र में हुआ दो करोड़ 21 लाख के विकास कार्यो का लोकार्पण
Todays Date
16 May 2021

घर-घर हुई देवउठनी एकादशी पर पूजा अर्चना

फोटोः डीडी 8, डीडी, डीडी 10

कैप्शन : देवउठनी एकादशी पर इस तरह हुई पूजा अर्चना।

घर-घर हुई देवउठनी एकादशी पर पूजा अर्चना

संदीप गोयल/एस.के.एम. न्यूज़ सर्विस

देहरादून 25 नवम्बर। आज देवभूमि उत्तराखंड में तुलसी विवाह और देवउठनी एकादशी श्रद्धा भाव के साथ मनाई गई। श्री पृथ्वीनाथ महादेव जी मंदिर देहरादून में प्रातः 9:00 बजे श्री तुलसा मैया का भव्य कार्यक्रम में पूजन किया गया। श्री पृथ्वीनाथ महादेव जी मंदिर सेवा दल के संजय कुमार गर्ग ने कहा की कार्तिक मास शुक्ल पक्ष की एकादशी को श्रीहरि चतुर्मास की निद्रा से जागते हैं, इसीलिए इस एकादशी को देवउठनी एकादशी भी कहते हैं। इस दिन से ही हिन्दू धर्म में शुभ कार्य शुरू हो जाते हैं।

देवउठनी एकादशी के दिन ही भगवान विष्णु के स्वरूप शालीग्राम का देवी तुलसी से विवाह होने की परंपरा भी है।  माना जाता है कि जो भक्त देवउठनी एकादशी के दिन तुलसी विवाह का अनुष्ठान करता है उसे कन्यादान के बराबर पुण्य मिलता है। पौराणिक कथा के अनुसार एक बार माता तुलसी ने भगवान विष्णु को नाराज होकर श्राम दे दिया था कि तुम काला पत्थर बन जाओगे।

इसी श्राप की मुक्ति के लिए भगवान ने शालीग्राम पत्थर के रूप में अवतार लिया और तुलसी से विवाह कर लिया। वहीं तुलसी को माता लक्ष्मी का अवतार माना जाता है। हालांकि कई लोग तुलसी विवाह एकादशी को करते है तो कहीं द्वादशी के दिन तुलसी विवाह होता है। ऐसे में एकादशी और द्वादशी दोनों तिथियों का समय तुलसी विवाह के लिए तय किया गया है।

No Comments

Leave a Reply

*

*